शुक्रवार, 2 दिसंबर 2016

उम्र से लम्बा हादसा

ग्यारह हजार 680 दिन यानी दो लाख 80 हजार 320 घंटे बीत चुके हैं भोपाल में बहुराष्ट्रीय कंपनी यूनियन कारबाइड से जहरीली गैस रिसने से शुरू हुई सतत त्रासदी को। हादसे के वक्त और तब से अब तक  हजारों लोग इस नासूर का शिकार हो चुके हैं। राहत, पुनर्वास और मुआवजे की लंबी त्रासद प्रक्रिया, राजनीति के घटाटोप में पीड़ितों को न्याय और दोषियों को बाजिब सजा मिलने की संभावना कहीं गुम हो गई है। सामूहिक नरसंहार के बदले भारत सरकार ने यूनियन कारबाइड से जो 750 करोड़ रुपए लिए थे, उसका उचित रूप से बंटवारा नहीं हो सका। साढ़े सात लाख मुआवजा दावे थे, उनमें से सबका निपटारा तक नहीं हो सका। समूचे भोपाल को गैस पीड़ित घोषित करने की मांग पर ढाई दशक तक राजनीति जारी रही। यह दिल्ली में कांग्रेस सरकारों के वक्त इस मुद्दे को सर्वाधिक उठाते रहे भाजपा नेता बाबूलाल गौर दो दफा गैस त्रासदी राहत मंत्री और एक दफा मुख्यमंत्री भी बन चुके हैं, लेकिन उन्होंने यह मुद्दा सत्ता मिलते ही छोड़ दिया।
इधर भोपाल शहर में करोड़ों की लागत से बनीं भव्य इमारतें जिन्हें अस्पताल नाम दिया गया है, में करोड़ों रुपए खर्च कर विदेशों से लाई गई मशीनें धूल खा रही हैं। अगर इन अस्पतालों में सब कुछ ठीक से चलने लगे तो भोपाल देश का सर्वाधिक स्वास्थ्य सुविधा संपन्न शहर हो सकता है। लेकिन दो दशक में ऐसा होने के बजाय हालात और बदतर हो गए हैं। दवाएं खरीदने के नाम पर घोटालों के बीच अपने सीने में घातक गैस का असर लिए गैस पीड़ित आज भी तिल तिलकर मर रहे हैं। दवाओं का टोटा न अस्पतालों में नजर आता है और न ही आंकड़ों में। लेकिन लोग दवाओं के लिए भटकते रहते हैं।
विश्व की सबसे भीषणतम औद्योगिक त्रासदी का तमगा हासिल कर चुके इस भोपाल हादसे के मुजरिमों को न केवल तत्कालीन सरकारों ने भाग जाने दिया बल्कि बाद की सरकारों ने नाकाफी हजार्ना लेकर समझौता करने से लेकर आपराधिक मामले में धाराएं कमजोर करने जैसे अक्षम्य अपराध कर कानूनी पक्ष को कमजोर किया। इससे प्राकृतिक न्याय की मूल भावना कमजोर हुई। आर्थिक हजार्ना कभी मौत के मामले में न्याय नहीं हो सकता, फिर यह तो सामूहिक नरसंहार का मामला है। उच्चतम न्यायालय ने 13 सितंबर 1996 के फैसले में यूनियन कारबाइड से जुड़े अभियुक्तों के खिलाफ आईपीसी की दफा 304 के स्थान पर 304- ए के तहत मुकदमा चलाने का निर्देश दिया। इसके तहत यूका के खिलाफ फैसला होने पर अभियुक्तों को दो वर्ष कैद और पांच हजार रुपए जुमार्ने की सजा होगी। इस मामले में यूनियन कारबाइड के तत्कालीन अध्यक्ष वारेन एंडरसन, यूका ईस्टर्न हांगकांग तथा यूका इंडिया लिमिटेड के तत्कालीन अध्यक्ष केशव महिंद्रा समेत 10 अन्य अभियुक्त बनाए गए थे। एंडरसन प्रमुख अभियुक्त होने के बावजूद भारत में अदालत के सामने पेश नहीं हुआ। उसकी मौत हो चुकी है और अब जाकर उस वक्त उसे सेफ पैसेज देने के मामले में तत्कालीन कलेक्टर मोती सिंह के खिलाफ केस दर्ज हुआ है। लेकिन उन्होंने जिनके आदेश पर यह सब किया उनके खिलाफ कुछ नहीं हो सका। उस वक्त के प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री भी अब इस दुनिया में नहीं हैं। कांड के दोषी और उन्हें बचाने के दोषी भी काल कवलित हो गए और हादसे में काल कवलित हुए बेकसूरों के खून का इंसाफ नहीं हो सका। भाजपा की सरकार ने भी एक और आयोग बनाया लेकिन यह भी लगातार त्रासदी झेल रहे लोगों के किसी काम न आ सका। गैस पीड़ितों की मदद में 32 साल पहले उठे हाथ अब चंद पीड़ितों के हाथों में मोमबत्ती की रस्म पूरी करने तक सीमित रह गए हैं। गैस पीड़ितों के झंडाबरदार संगठनों की संख्या बढ़ती गई और उनके बीच भी झंडारबरदारी की आरोप प्रत्यारोप की सियासत तल्ख हो चुकी है। आलम ये है कि भोपाल के एडीएम ने तीन दिसंबर को त्रासदी के रोज सरकारी छुट्टी पर सवालिया निशान लगा दिया है। न सरकार, न गैर पीड़ित जनता और न ही झंडाबरदारों, सियासतदानों को कोई फिक्र है। भोपाल हादसे से किसी भी तरह का सबक नहीं लिया गया है। आज भी भोपाल में और देश भर में घनी आबादियों के बीच घातक कारखाने धड़ल्ले से चल रहे हैं। हर कहीं हर कभी छोटे छोटे भोपाल घट रहे हैं। ढाई दशक बाद न भोपाल ने न मप्र ने न भारत ने और न ही दुनिया ने भोपाल से कोई सबक लिया है।

सोमवार, 25 अप्रैल 2016

शिप्रा तट पर अमृत के मेले में रात नहीं होती




दृश्य-1

दिन गुरूवार 21 अप्रैल रात के करीब 10 बजे हैं, उज्जैन शहर में प्रवेश करने वाले रास्तों पर एक किस्म का सन्नाटा है, पुलिस छावनी का सा सन्नाटा है ये, हर चौराहे पर अनगिनत बेरीकेड्स, पुलिस के जवान किसी को यूं ही शहर में प्रवेश नहीं करने देते। बाजारों में भी चहल-पहल जैसे थमी सी है, सिवाए हर चौराहे और बाजार में एक खास दुकान के जिस पर लगा बैनर भीड़ की वजह स्वयं बता रहा है- मदिरा की दुकान, कल से एक माह के लिए बंद रहेगी। मयकशों ने रात 11 बजने तक ऐसी दुकानों और आसपास को गुलजार बनाए रखा।
दृश्य-दो
हम अब मेला क्षेत्र यानी पुण्य सलिला शिप्रा के तटों और आसपास के इलाकों की तरफ जाने वाले मार्गों से गुजर रहे हैं। ये क्या यहां तो नजारा ही बदल हुआ है, रात 12 बजने को हैं और चहल पहल ऐसी मानो दिन हो। साधु, संतों, शंकराचार्यों के पंडालों के बाहर भीड़, अंदर कहीं कथा-प्रवचन, कहीं आरती, कहीं भोजन भंडारा चल रहा है। अब हम आ पहुंचे मंगलनाथ घाट। पुल पर लोगों की चहल पहल, घाटों पर शिप्रा में फौहारों से उड़ती जल रश्मियों का लुत्फ लेते लोग। घाट से लौटे तो शिप्रा में बदस्तूर मिलते रहने वाले नाले से भी रूबरू हुए। मेले के पंडालों की तरफ लौटे तो हर जगह साधुओं की तैयारी दिखी अलसुबह पांच बजे शुरू हो रहे शाही स्रान के लिएि वे सज-धज रहे थे। नागा साधुओं का उत्साह तो ऐसा मानो विश्व विजय के लिए बस निकलने ही वाले हैं। तन बदन पर भभूत रमाए, कुछ साधु नग्न देह को फूलों की मालाओं से अलंकृत करते दिखे, हाथ में त्रिशूल, कोई तलवार कोई और हथियार लिए, खुशी का पारावार नहीं, बस चंद घंटे दूर है सिंहस्थ महापर्व का शाही स्रान। इधर प्रशासन की चिंता बढ़ती जा रही है, रामघाट, दत्त अखाड़ा घाट रात 1 बजे आम श्रद्धालुओं से खाली करा लिए गए। प्रभारी मंत्री भूपेंद्र सिंह रात डेढ़ बजे भी निरीक्षण में घूम रहे हैं, अफसर भी पुलिस कर्मी भी, सभी मुस्तैद और कहीं कोई गड़बड़ न हो जाए इस आशंका से भी ग्रस्त। दो बज गए, अब महज दो घंटे भी नहीं हैं क्रमानुसार अखाड़ों की सवारी शाही स्रान के लिए रवाना होने की। तीन बजते बजते दशनामी जूना अखाड़ा का दल पूरी तरह तैयार होकर रवानगी को उद्धत है। बाकी अखाड़ों में भी साधु के साज श्रृंगार जारी हैं।
दृश्य-तीन
चार बज गए अब घाटों पर शाही स्रान देखने वाले श्रद्धालु भी जमने लगे हैं। लो आ गया पुण्यदायिनी मोक्षदायिनी शिप्रा के तट पर सिंहस्थ 2016 के आगाज का वक्त। सूर्य सिंह राशि में हैं, ब्रम्हबेला है, पांच बजे और दशनामी जूना अखाड़े का दल रामघाट पर आ गया, हर हर महादेव, हर हर महादेव के जयकारों के साथ दुंदुभियां, शंख बजाते, ध्वजाएं लहराते साधु अपने पीठाधीश्चर और इष्टदेव को पवित्र स्रान करने के बाद कूद पड़े शिप्रा की जलराशि में। अब सिलसिला शुरू हो गया अखाड़ों के क्रमश: आने का और जय जयकार के साथ डुबकियां लगाने का। पूरब में भगवान सूर्यदेव उदित हो गए, शिप्रा में आ रहा नर्मदा जल फौहारों से सूर्य रश्मिमय होेकर मानो इंद्रधनुष बनकर शिप्रा में उतर रहा है, नर्मदा जल शिप्रा में मिलकर शिप्रा हो रहा है, मानो नर्मदा जल भी शिप्रा स्रान कर सिंहस्थ के शाही स्रान पर्व में मिलकर एकाकार हो रहा है।
दृश्य-चार
धूप निकल आई है, भीड़ उतनी नहीं जितनी प्रशासन ने अनुमानित कर रखी थी, रामघाट और दत्त अखाड़ा घाट पर अखाड़ोंं का शाही स्रान जारी है, अन्य घाटों पर आम श्रद्धालुओं को स्रान की अनुमति है, लेकिन ज्यादातर घाट खाली हैं। गऊ घाट पर कुछ भीड़ जरूर दिखती है, आठ बजे करीब यह घाट भर गया, पुलिस कर्मी एनाउंस कर रहे हैं, दूसरे घाटों पर चाहिए खाली पड़े हैं, इस घाट पर जाएंगे तो आप धक्का मुक्की में फंस सकते हैं। रामघाट की ओर जाने वाले तटीय रास्ते को बीएसएफ के जवानों ने सील कर दिया है। प्रेस का पास भी इन जवानों को प्रभावित नहीं करता, आखिर इस संवाददाता को पुलिस के सादी वर्दी वाले दो इंस्पेक्टर को मिली रियायत के साथ रामघाट पर जाने की मंजूरी मिल गई। नागा साधुओं का एक बड़ा दल स्रान के दौरान, बाद में और रवानगी से पहले योग मुद्राओं का प्रदर्शन और जोरदार हर्ष ध्वनि से श्रद्धालुओं को भी विभोर कर रहा है, चारों तरफ से हर हर महादेव हर हर महादेव के जय घोष गंूज रहे हैं। अब जिस आन बान शान से सवारी आई थी, उसी बानगी से लौट चली। करीब नौ बजे हैं श्रद्धालुओं की भीड़ प्रशासन के अनुमान का 40 फीसदी ही होगी, लिहाजा रामघाट, दत्त अखाड़ा घाट पर शाही स्रान के बीच ही आम श्रद्धालुओं का भी स्रान होने लगा। वैसे ये दोनों घाट शाही स्रान के बाद दोपहर दो बजे आम श्रद्धालुओं के लिए खोले जाने थे। इस संवाददाता ने भी अवसर का लाभ लिया और शिप्रा में सिंहस्थ का शाही स्रान किया।
दृश्य-पांच
अखाड़ों के छोटे बड़े दल और हर दल में कुछ नागा साधुओं की उपस्थिति, विदेशी संतों और श्रद्धालुओं की उपस्थिति से शाही स्रान के ये दल हर बार आम श्रद्धालुओं के लिए आकर्षण का केंद्र बने। फोटोग्राफर, मीडिया वीडियोग्राफर शिप्र जल में उतरकर साधुओं की स्रान और हर्षमुद्राओं का क्लिक कर रहे हैं और साधु भी स्रान के साथ ही विभिन्न मुद्राओं में पोज दे रहे हैं। चर्चित स्वामी नित्यानंद और किन्नरों के नवनिर्मित अखाड़े जन रूचि और मीडिया रूचि का केंद्र बने।
दृश्य-छह
शिप्र शिप्र बहने वाली शिप्रा की ही तरह पवन बयार भी मंद मंद बह रही है, धूप तेज हो रही है लेकिन फौहारों के जल से आ रही बौछारों ने घाटों और पुलों पर शीतलता छिड़क रखी है। साढ़े 11 बजे हैं और ये आ गया उदासीन अखाड़ा, यह आखिरी अखाड़ा है, महंत मंडलेश्वर नाराज हैं, शाही स्रान के दौरान आम श्रद्धालुओं को स्रान की इजाजत किसने दी? प्रशासन में हड़बड़ी मच गई। कलेक्टर कवींद्र कियावत आ गए, आम श्रद्धालुओं से बहस मुबाहिसे के बाद घाट पूरी तरह खाली कराया, तब अखाड़े का स्रान हुआ। शाही स्रान के लिए अखाड़ों का मुकर्रर वक्त बीत गया। अब आम लोगों की सभी घाटों पर स्रान की अनुमति है। लोग स्रान करने लगे लेकिन भीड़ वैसी नहीं है कि स्रान का मौका ही न मिले। प्रशासन ने घाटों की संख्या पहले से ही इतनी कर दी है कि यह नौबत न आए। दोपहर के दो बजने वाले हैं, भीड़ शिप्रा के तटों पर तो है ही लेकिन उससे कहीं ज्यादा महाकाल, हरसिद्धी, मंगलनाथ और अन्य मंदिरों की तरफ बढ़ रही है, प्रशासन ने ओवर बेरीकेडिंग कर लोगों को हलकान कर रखा है। बाहर से आए हुए लोगोंं को रास्ते बताने में पुलिस और यातायात पुलिस कर्मी अक्षम साबित हो रहे हैं, वे लोगों को टका सा जबाव देते हैं- हम बाहर से आए हैं लोकल वालों से पूछो। यह हाल छह महीने पहले से शुरू कर दिए गए प्रशिक्षण के बाद है। महाकाल तथा अन्य मंदिरों पर श्रद्धालुओं को दर्शन करने का सहज अवसर नहीं मिल रहा है, लोगों में नाराजी है। स्थानीय लोग इसलिए नाराजी जता रहे हैं कि उन्हें अपने ही घर नहीं जाने और आने दिया जा रहा। घाटों की तरफ बढ़ रहे और लौट रहे लोगों के रेले में बच्चे, जवान और बूढ़े सभी हैं। कई किलोमीटर दूर वाहन छोड़ने पर मजबूर होने के बाद आॅटो, हाथ ठेले ही धूप में सफर को कुछ आसान बनाने के लिए काम आ रहे हैं। जगह जगह ठंडे पानी की प्याऊ लोगों के धूप से कष्ट को कुछ राहत दे रहे हैं।
दृश्य-सात
घाटों पर स्रान का सिलसिला देर रात तक चलता रहा। इधर मेला क्षेत्र में शिविरों में भोजन परसादी, लंगर की धूम है। प्रवचन कथा भागवत योगाभ्यास जारी है। कहीं कोई साधु शंख बजा रहा है, कहीं कोई योग मुद्रा का प्रदर्शन कर रहा है। कहीं कोई चिलम फूंक रहा है और विदेश शिष्य या शिष्या भक्ति भाव से निहार रहे हैं और फोटो उतार रहे हैं। कहीं कोई हाथ बंचवा रहा है तो कोई कुंडली पढ़वा कर अपना भाग्य जानने की उत्कंठा लिए संत महाराज के चरणों की सेवा में रत है। शाम ढलते ही अस्ताचल सूर्य की रश्मियों से एक बार फिर नर्मदा जल की फुहारें इंद्रधनुषी होकर शिप्रा में मिलने का दृश्य मनोरम हो उठा। मेले में और घाटों पर दूधिया रोशनी उतरने लगी, पता ही नहीं चला कब शाम से रात हो गई, लग ऐसा ही रहा था, मानो रात हुई ही नहीं। महाकाल, हरसिद्धि समेत सभी मंदिरों से संझा आरती के सुर हवाओं में व्याप्त होने लगे। पंडालों में भी आरतियां होने लगीं। अर्धरात्रि होने तक भजन कीर्तन, ब्रम्हचर्या में संत, साधु, भक्त और आचार्य सभी लीन रहे। मेला क्षेत्र में रात मानो होती ही नहीं है। मेला क्षेत्र से बाहर उज्जैन शहर में भी श्रद्धालुओं की मौजूदगी से नगर के प्रमुख स्थलों पर चहल पहल है। सिंहस्थ पर्व के पहले शाही स्रान का दिन बीत गया। आयोजन में दिन रात जुटे शासन प्रशासन के सामने कुछ सवाल भी छोड़ गया यह पहला दिन कि अनुमान से भीड़ कम क्यों आई, खामियां क्या क्या हैं, अगले शाही स्रान में 9 मई को और बेहतर इंतजाम होंगे, ऐसी उम्मीद की जा सकती है।

गुरुवार, 14 अप्रैल 2016

लो खेती बन गई मुफ्त में बांटने का धंधा

बीते एक दशक में मध्यप्रदेश दहाई अंक में कृषि विकास दर, चार बार कृषि कर्मण अवार्ड पाने वाला और खेती को लाभ का धंधा बनाने के मिशन की तरफ तेजी से दौड़ता राज्य बनकर उभरा प्रचारित हो रहा है, पांच साल में किसानों के मुनाफे को दोगुना करने का हलफ भी उठा लिया गया है। लेकिन हकीकत क्या है? विदिशा में खुद मुख्यमंत्री के खेत में भरपूर पैदा हुए टमाटर उनके सिपहसालार लोगों को मुफ्त में बांटकर वाहवाही लूटने के फोटो खिंचाते दिख रहे हैं। यह क्या रास्ता हुआ भला? दाम नहीं मिल रहे तो मुफ्त में बांटो, गजब का उदाहरण पेश किया जा रहा है। किसान भी ऐसे ही मुफ्त में अपनी उपज बांटने लगे या माटी मोल बेचने को मजबूर हो तो फिर क्या रास्ता उसके पास बचता है, सल्फास? फांसी का फंदा, कीटनाशक? क्या करे, फिर वो बच्चों को क्या खिलाए, खुद क्या खाए? एक दशक से खेती को लाभ का धंधा बनाने का प्रचार करने वाली सरकार किसान की उपज की मार्केटिंग की क्या व्यवस्था बना पाई? टमाटरों का कैचप बनाने के बड़े बड़े वादों का कचमूर कैसे निकल गया? जैसी टमाटर की बंपर पैदावार की दशा 1980 में हुई थी, 10 पैसे किलो बिका फिर फ्री में भी कोई लेना वाला नहीं मिलता था उस वक्त। छत्तीस बरस बाद भी वही हालात क्यों? किसानों से बार बार कहा गया और अब भी कहा जा रहा है कि वे केवल पारंपरिक फसलों गेहूं, चना, सोयाबीन के भरोसे न रहे, फल, सब्जी, फूल इत्यादि की भी खेती साथ में करें। फलां साब के खेत के फूल इतने लाख के बिके, फलां ने टमाटर, प्याज की खेती से इतना मुनाफा कमाया। अब टमाटर और प्याज के दाम दो कौड़ी के कैसे हो गए? और वे कैसे फिंक रहे हैं या मुफ्त बाँटने की हैसियत वाले लग्जरी किसान मुफ्त बांट रहे हैं और असल किसान दो दो आंसू रोने की स्थिति में है। खाद्य प्रसंस्करण के उद्योगों के सपनों का क्या हुआ? क्या होगा खेती के अलावा अन्य तरह की खेती की राहों का? आपको इन सवालों के जबाव देने वाला कोई जिम्मेदार आदमी मिले तो मुझे भी मिलवाइए, कुछ सवाल करने हैं।                                                                                - सतीश एलिया